रूस की जनसंख्या कितनी है – Russia ki jansankhya kitni Hai

रूस की जनसंख्या कितनी है : आज रूस संपूर्ण विश्व में क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा देश माना जाता है परंतु इसका विघटन होने से पहले यह जनसंख्या के मामले में भी संपूर्ण विश्व के अग्रणी देशों में आता था

1991 में जब USSR का विघटन हुआ तो उस समय इस संपूर्ण सोवियत संघ में कुल 18 देश हुआ करते थे जो कि इस का विघटन होने के बाद अलग-अलग हो गए और उनमें से सबसे बड़ा देश बचा वह था रूस

हालांकि इस सोवियत संघ का विघटन होने के बाद भी रूस विश्व का सबसे बड़ा क्षेत्रफल की दृष्टि से देश बना हुआ है परंतु जनसंख्या की दृष्टि से यह विश्व में बहुत पीछे हैं क्योंकि जनसंख्या के मामले में अग्रणी देशों में चाइना, भारत, इंडोनेशिया, अमेरिका और ब्राजील जैसे देश आते हैं

आज के इस लेख में हम रूस की जनसंख्या से संबंधित बहुत सी जानकारियों को देखेंगे जैसे कि रूस की जनसंख्या कितनी है और रूस की जनसंख्या में किस हिसाब से वृद्धि दर हुई इत्यादि

साथ ही आज के इस लेख का हमारा मुख्य विषय रहेगा रूस की जनसंख्या कितनी है, जिसमें हम रूस की वर्तमान समय की जनसंख्या को देखेंगे

इस राष्ट्र की जनसंख्या वर्तमान में इसलिए भी चर्चा में बनी हुई है क्योंकि हाल ही में रूस और यूक्रेन का युद्ध जोरों पर चल रहा है और जिस कारण से इन दोनों देशों को अपने-अपने स्तरों पर मानवीय हानि को भी उठाना पड़ रहा है क्योंकि युद्ध का परिणाम कभी भी सकारात्मक नहीं होता है

 

Russia ki jansankhya kitni Hai
 Russia ki jansankhya kitni Haiin Hindi 

 

रूस की जनसंख्या कितनी है – Population of Russia

आज रूस क्षेत्रफल की दृष्टि से विश्व का सबसे बड़ा देश है परंतु जनसंख्या की दृष्टि से इसका स्थान नौवा आता है और इसके पीछे वहां की जनसंख्या वृद्धि दर कम होना ही है

अगर संपूर्ण रूस की जनसंख्या की बात की जाए तो उनमें से 80% जनसंख्या रूस के पश्चिमी हिस्से में निवास करती है जोकि यूरोपीय देशों के समीप हैं और वहीं दूसरी ओर केवल 20% आबादी ही इस के पूर्वी हिस्से में निवास करती हैं

रूस की सबसे अधिक आबादी वाले शहर इसकी राजधानी मॉस्को और पीटर्सबर्ग है

आज  वर्तमान में रूस की कुल जनसंख्या 14.34 करोड हैं  और इससे पहले यह लगभग 14 करोड़ के आसपास हुआ करती थी परंतु 1 वर्ष के भीतर ही इसमें 34 लाख की वृद्धि हुई है

इस जनसंख्या के अचानक बढ़ने के पीछे एक कारण कोरोना वायरस का भी माना जा रहा है जिसके दौरान रूस में भी काफी समय तक लॉकडाउन रहा था और बहुत सारे जोड़ों को अधिकतर समय प्राप्त हुआ था

इसके अलावा रूस की सरकार ने अपने देश की जनसंख्या बढ़ाने के लिए उन महिलाओं को 1 अरब रूसी रूबल देने की बात भी कही है जो महिलाएं 10 बच्चों को जन्म देगी

1 अरब रूसी रूबल का अर्थ होता है भारतीय मुद्रा में लगभग 13 लाख रुपए और इस प्रकार का इनाम रूस की सरकार द्वारा 1991 तक भी दिया जाता था

जब तक कि सोवियत संघ का विघटन नहीं हुआ था परंतु 1991 के बाद में इस प्रकार के पुरस्कार को अंतरराष्ट्रीय संस्थानों के द्वारा दबाव के कारण बंद कर दिया गया परंतु अब एक बार फिर से इसे शुरू किया गया है

जो महिला अपने पूरे जीवन काल में 10 बच्चों को जन्म देती है उसे “मदर हीरोइन”नाम का अवार्ड दिया जाएगा और ऐसा करने के पीछे रूस की सरकार का एक ही उद्देश्य है कि एक बार फिर से रूस की जनसंख्या को बढ़ाया जा सके

जब हम रूस के क्षेत्रफल और उसकी जनसंख्या की तुलना करते हैं तो उन दोनों का एक अनुपात हमें प्राप्त नहीं होता है क्योंकि एक इतने बड़े भौगोलिक क्षेत्रफल की तुलना में यह 14 करोड़ की जनसंख्या बेहद कम है

अगर भारत के केवल एक राज्य उत्तर प्रदेश की बात करें तो यहां की जनसंख्या भी लगभग 25 करोड़ के तकरीबन हैं जोकि इस संपूर्ण राष्ट्र की जनसंख्या से भी कई गुना ज्यादा है

हालांकि इस प्रकार रूस की जनसंख्या बढ़ाने को लेकर बहुत सारे देशों और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा रूस के राष्ट्रपति  वाल्मीदिर पुतिन की निंदा भी की जा रही है क्योंकि यह महिलाओं के सेहत के साथ एक प्रकार का खिलवाड़ हैं

 

रूस की जनसंख्या कम होने के कारण

प्रारंभिक काल की बात की जाए तो उस समय रूस नाम का कोई भी देश नहीं हुआ करता था क्योंकि एक सोवियत संघ अस्तित्व में था जिसमें कि कई सारे देश सम्मिलित थे जैसे कि अजरबैजान या फिर कजाकिस्तान इत्यादि

पर जब सोवियत संघ का 1991 में विघटन हो गया तो इससे रूस की जनसंख्या पर भी फर्क पड़ा क्योंकि बहुत सारे अलग-अलग देश होने के कारण इस सोवियत संघ की जनसंख्या भी काफी कम हो गई थी

अगर मुख्य रूप से बात की जाए तो रूस की जनसंख्या कम होने के निम्नलिखित कारण है :

  • सोवियत संघ का विघटन होने पर बहुत सारे छोटे-छोटे देशों का निर्माण हो गया और इस संपूर्ण सोवियत संघ की अधिकतर जनसंख्या इन छोटे-छोटे देशों में बिखर गई
  • द्वितीय विश्व युद्ध में सोवियत संघ द्वारा अपने बहूत  से सैनिकों को खो दिया गया जिससे कि उस समय सोवियत संघ में बहुत सारे जवान पुरुषों की कमी हो गई थी और एक कारण यह भी रहा कि रूस की जनसंख्या बहुत ज्यादा कम हुई
  • जिस प्रकार से भारतीय सरकार जनसंख्या को लेकर विभिन्न प्रकार की नीतियों का निर्माण करती है उस प्रकार से रूस की सरकार ने अपनी वहां की जनसंख्या को लेकर किसी भी प्रकार की एक मजबूत नीति को तैयार नहीं किया और समय-समय पर अपने देश की जनगणना भी ना कराने के कारण भी रूस की सरकार को यह पता नहीं चला कि उनके देश की वास्तविक जनसंख्या क्या है
  • अपने देश की जनसंख्या को बढ़ाने के लिए जब रूस की महिलाओं को जानबूझकर ज्यादा बच्चे पैदा करने के लिए मजबूर किया गया तो उस समय रूसी सरकार को इन महिलाओं के विरोध का सामना भी करना पड़ा क्योंकि आधुनिक समय में एक महिला द्वारा एक या दो बच्चों को ही जन्म देने की क्षमता होती है परंतु जब रूस की सरकार ने यह चाहा कि एक महिला 10 बच्चों को जन्म दे तो इससे रूस की महिलाओं में भी काफी विरोध की भावना उत्पन्न हो गई
  • एक बहुत बड़ा भौगोलिक क्षेत्रफल होने के कारण रूस की सरकार यह पता नहीं लगा पा रही थी कि उनकी कुल जनसंख्या कितनी है और कौन-कौन से क्षेत्रों में अधिकतर जनसंख्या निवास करती हैं और शायद एक कारण यह भी रहा कि रूस की जनसंख्या अपने भौगोलिक क्षेत्रफल की तुलना में बहुत ज्यादा कम रह गई
  • सोवियत संघ का विघटन होने के बाद अधिकतर जवान पुरुष व महिलाएं अन्य देशों में पलायन घर गए जिससे कि 1991 के बाद रूस की जनसंख्या में हमें निरंतर कमी देखने को मिली

 

रूस की जनसंख्या बढ़ाने के लिए किए गए उपाय

अब आप यह तो जान गए होंगे कि रूस की जनसंख्या कितनी है और वहां जनसंख्या कम क्यों हुई

परंतु अब हम यह भी देख ले कि वहां की सरकार द्वारा और स्थानीय लोगों द्वारा अपनी जनसंख्या को बढ़ाने के लिए किस किस प्रकार के उपाय किए जा रहे है

रूस की जनसंख्या बढ़ाने के लिए निम्नलिखित उपाय किए जा रहे हैं :

  • अब रूस द्वारा प्रत्येक 10 सालों में अपने देश में जनगणना को कराया जाता है जिससे कि वहां की सरकार के पास अपने लोगों की सही संख्या पहुंच सके और वह जनसंख्या को लेकर विभिन्न प्रकार की नीतियों का निर्माण कर सकें
  • रूस की सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार के पुरस्कारों की घोषणा करके भी लोगों को रिझाया जा रहा है ताकि लोगों द्वारा ज्यादा से ज्यादा बच्चे पैदा किए जाए और ऐसा करने से रूस की जनसंख्या में इजाफा हो
  • हाल के वर्षों में रूस की सरकार द्वारा महिलाओं को 10 बच्चे पैदा करने पर इनाम देने की घोषणा भी की गई है जिससे कि रूस की जनसंख्या बढ़े
  • रूस की सरकार द्वारा लोगों की जल्दी शादियां भी कराई जा रही है जिससे कि वहां की जनसंख्या वृद्धि दर में इजाफा हो और रूस की जनसंख्या दोगुनी रफ्तार से बढ़ सकें
  • रूस के नागरिकों द्वारा भी अब इसमें रूस की सरकार को सहयोग किया जा रहा है और सरकार की इच्छा अनुसार ही उनके द्वारा ज्यादा बच्चे भी पैदा किए जा रहे हैं क्योंकि हाल ही में हो रहे रूस और यूक्रेन के युद्ध में बहुत सारे जवान सैनिकों को रूस पहले ही खो चुका है
  • अगर कोई ज्यादा बच्चे पैदा करता है तो उन बच्चों की परवरिश के लिए रूस की सरकार द्वारा समस्त खर्च भी उठाया जाएगा जैसे कि उसकी पढ़ाई का खर्च और उसके खाने का खर्च इत्यादि, जिससे कि उसके माता-पिता पर उसके परवरिश की ज्यादा चिंता ना हो और वह और भी ज्यादा बच्चे कर पाए

 

2023 में रूस की जनसंख्या

रूस की जनसंख्या कितनी है यह जानने से भी महत्वपूर्ण बात यह है कि वर्तमान में यानी कि 2023 में रूस की जनसंख्या कितनी है क्योंकि हाल ही में हो रहे रूस और यूक्रेन के युद्ध ने इस चर्चा को और गर्म कर दिया है

2023 में रूस की कुल जनसंख्या 14 करोड़ 13 लाख हैं जो कि पिछले वर्ष की तुलना में थोड़ी सी अधिक है

2021 में रूस की कुल जनसंख्या लगभग 14 करोड़ 5 लाख थी जो कि 2022 में 8 लाख बढ़ गई

हालांकि एक संपूर्ण देश की जनसंख्या को उसकी जनगणना से ही समझा जा सकता है परंतु इन जनगणना के आंकड़ों को इकट्ठा करने वाली एक प्रसिद्ध वेबसाइट वर्ल्ड मीटर द्वारा यह घोषणा की गई है कि 2023 में रूस की कुल जनसंख्या 14 करोड़ और 13 लाख है

 

जनसंख्या की दृष्टि से विश्व के अग्रणी 10 देश

जब जनसंख्या की बात हो ही रही है तो हमें यह भी देख लेना चाहिए कि संपूर्ण विश्व के वह कौन से 10 देश है जिनकी जनसंख्या सबसे अधिक है

  1. चाइना की जनसंख्या 142 करोड़ है और जनसंख्या की दृष्टि से इसका विश्व में प्रथम स्थान है
  2. भारत की जनसंख्या 140 करोड़ है और जनसंख्या की दृष्टि से इसका विश्व में दूसरा स्थान है और हो सकता है, आने वाले समय में भारत ही विश्व की सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश बन जाए
  3. संयुक्त राज्य अमेरिका की जनसंख्या 34 करोड है और जनसंख्या की दृष्टि से इसका विश्व में तीसरा स्थान है
  4. इंडोनेशिया की जनसंख्या 23 करोड़ है और जनसंख्या की दृष्टि से विश्व में इसका चौथा स्थान है
  5. पाकिस्तान की जनसंख्या 22 करोड़ है और जनसंख्या की दृष्टि से इसका विश्व में पांचवा स्थान है
  6. ब्राजील की जनसंख्या 21 करोड़ है और जनसंख्या की दृष्टि से इसका विश्व में छठा स्थान है
  7. बांग्लादेश की जनसंख्या 16 करोड़ है और जनसंख्या की दृष्टि से इसका विश्व में सातवां स्थान है
  8. अफ्रीकी देश नाइजीरिया की जनसंख्या 15 करोड़ है और जनसंख्या की दृष्टि से इसका विश्व में आठवां स्थान है और अफ्रीका महाद्वीप में यह सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश भी है
  9. रूस की जनसंख्या 14 करोड़ है और जनसंख्या की दृष्टि से इसका विश्व में नौवां स्थान है
  10. उत्तरी अमेरिका का देश मेक्सिको जिस की जनसंख्या 12 करोड़ है और जनसंख्या की दृष्टि से इसका विश्व में दसवां स्थान आता है

इस प्रकार से संपूर्ण विश्व में यह 10 देश है जिन की जनसंख्या सबसे अधिक है और आने वाले समय में हमें इनकी जनसंख्या में और भी ज्यादा वृद्धि  देखने को मिल सकती हैं


FAQs : Russia ki jansankhya kitni Hai

सवाल : रूस की जनसंख्या कितनी है?

रूस की कुल जनसंख्या 14 करोड़ और 13 लाख है

सवाल : रूस की जनसंख्या कम होने का सबसे प्रमुख कारण क्या है?

रूस की जनसंख्या कम होने का सबसे प्रमुख कारण वहां समय-समय पर जनगणना ना होना है

सवाल : रूस की सरकार द्वारा वहां की जनसंख्या बढ़ाने के लिए किया गया सबसे महत्वपूर्ण उपाय क्या है?

रूसी सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार के पुरस्कारों की घोषणा द्वारा अपने देश की जनसंख्या को बढ़ाना ही सबसे महत्वपूर्ण उपाय है

सवाल : संपूर्ण विश्व की सबसे अधिक आबादी वाला देश कौन सा है?

सबसे अधिक आबादी वाला देश चाइना है जिसकी कुल जनसंख्या 142 करोड़ है

सवाल : रूस की अधिकतर जनसंख्या किन शहरों में निवास करती है?

रूस की अधिकतर जनसंख्या रूस की राजधानी मॉस्को और पिट्सबर्ग में निवास करती है


Conclusion

तो पाठकों हम आशा करते हैं कि आपको आज का हमारा यह लेख रूस की जनसंख्या कितनी है बहुत ज्यादा पसंद आया होगा और इसे पढ़कर आपको रूस की जनसंख्या के संदर्भ में बहुत अच्छी जानकारी प्राप्त हुई होगी

अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इस लेख के Comment Box  में अपने अमूल्य Suggestions जरूर लिखें ताकि आगे आने वाले समय में हम आपके सुझावों के मुताबिक इसी प्रकार के ज्ञानवर्धक लेख आपके लिए सदैव लाते रहे और आपके ज्ञान में सकारात्मक वृद्धि करते रहे

इस लेख को पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत आभार और धन्यवाद