उत्तर प्रदेश (UP) की राजधानी (Uttar Pradesh ki rajdhani)

आज के इस लेख में हम Uttar Pradesh ki rajdhani के बारे में वे सभी महत्वपूर्ण बातें जानने वाले हैं जो आपके लिए बेहद जरूरी और अति महत्वपूर्ण है।

जैसा कि हम जानते हैं उत्तर प्रदेश जनसंख्या की दृष्टि से भारत का सबसे बड़ा राज्य है और इसलिए इसकी राजधानी में भी सबसे ज्यादा लोग रहते होंगे परंतु ऐसा नहीं है सबसे ज्यादा जनसंख्या वाली राजधानी महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई हैं।

 

Uttar Pradesh ki rajdhani
Uttar Pradesh ki rajdhani

 

उत्तर प्रदेश (UP) की राजधानी (Uttar Pradesh ki rajdhani)

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ है जिसे की नवाबों का शहर भी कहा जाता है। इसको नवाबों का शहर इसलिए कहा जाता है क्योंकि आज से कुछ वर्षों पहले यहां पर मुस्लिम नवाबों का शासन हुआ करता था !

और उनकी खानदानी प्रथा थी कि वह मेहमानों का स्वागत बहुत ही आलीशान तरीके से करते थे। उत्तर प्रदेश कि राजधानी लखनऊ अपने शानो शौकत और खाने पीने के लिए जानी जाती हैं।

 

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की स्थापना किसने और कब की थी 

लखनऊ को वर्तमान स्वरूप नवाब आश्वुदौला द्वारा सन 1705 में दिया गया था।

अवध के राजाओं ने इसे अपनी राजधानी बनाकर और अधिक समृद्ध किया। भारत के मुगल शासकों ने भी लखनऊ को बहुत ज्यादा समृद्ध किया और इसे भारत के अग्रणी शहरों में स्थापित करवाया।

लखनऊ के अंतिम नवाब वाजिद शाह थे जोकिअमजद शाह के पुत्र थे।

 

उत्तर प्रदेश (UP)की राजधानी लखनऊ के पर्यटक स्थल 

अगर किसी भी शहर को आगे बढ़ना है और अनेक यात्रियों को अपनी और आकर्षित करना है तो उसके लिए उसके पास अनेक प्रकार के पर्यटक स्थल होने चाहिए जो कि Uttar Pradesh ki rajdhani लखनऊ के पास हैं।

  • लखनऊ का ऐतिहासिक इमामबाड़ा :

इसकी स्थापना वर्ष का नामकरण लखनऊ के नवाब इमाम के नाम पर किया गया था। यहां पर हर साल बहुत बड़े मेले का आयोजन किया जाता है।


  • लखनऊ का हजरतगंज मार्केट :

अगर आप इस मार्केट में घूमने जाएंगे तो आपको ज्यादा कुछ तो नहीं नजर आएगा और आप महसूस करेंगे कि आप एक सामान्य मार्केट में घूम रहे हैं

परंतु इसकी जो सबसे बड़ी विशेषता है कि यहां पर ऐतिहासिक और सांस्कृतिक रूप से कई सारे सामान और वस्तुएं मिलती हैं जो कि यहां की संस्कृति को दर्शाती है। सड़क के दोनों और कई प्रकार की दुकानें आपको व्यवस्थित रूप से मिलेंगी।


  • लखनऊ की दिलकुशा कोठी :

आजादी के समय या स्वतंत्रता सेनानियों के लिए छुपने का एक साधन हुआ करती थी परंतु वर्तमान में यह एक महत्वपूर्ण पर्यटक स्थल के रूप में विद्यमान हैं।

इसका निर्माण 19वीं शताब्दी में मेजर कोर द्वारा किया गया था और यह बारोक शैली में निर्मित है जो कि स्थापत्य कला की एक महत्वपूर्ण शैली मानी जाती है।

यह लखनऊ के दिलकुशा कोठी पहले एक शिकार लॉज हुआ करती थी जिसे बाद में परिवर्तित करके ग्रीष्मकालीन महल में परिवर्तित कर दिया गया।


  • लखनऊ कि ब्रिटिश रेजिडेंसी :

भारत के स्वतंत्रता संग्राम के समय यहां पर एक बहुत बड़ी संख्या में अंग्रेजों की फौज रहा करती थी जिसका सामना भारत के स्वतंत्रता सैनिकों ने किया था।

1857 की स्वतंत्रता संग्राम क्रांति के समय कई सारे अंग्रेजों ने इस में शरण ली थी ताकि वे अपनी जान बचा पाए।

वर्तमान में यह किला एक खंडहर के रूप में परिवर्तित हो गया है और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग इसकी देखरेख और इसका संरक्षण कर रहा है।


  • लखनऊ का हुसैनाबाद क्लॉक टावर :

यह क्लॉक टावर भारत का सबसे बड़ा क्लॉक टावर माना जाता है जो कि लखनऊ में स्थित है।

प्राचीन काल में हर शहर में एक क्लॉक टावर हुआ करता था जिसके द्वारा संपूर्ण शहर की जनता अपने समय को देखती थी क्योंकि  उस समय पर हर किसी के पास घड़ी नहीं हुआ करती थी और इसे हिंदी में घंटाघर कहा जाता था।

हुसैनाबाद क्लॉक टावर को 1881  में बनाया गया था और यह 1881 से ही भारत का सबसे लंबा क्लॉक टावर माना जाता है जिसकी लंबाई से 67 मीटर ऊंची है।


  • लखनऊ का चंद्रिका देवी मंदिर :

हम जब भी लखनऊ के बारे में पढ़ते हैं तो हमें यहां के नवाबों के बारे में याद आती है और हमें यह प्रतीत होता है कि यहां पर केवल मुसलमानों के पार्तिक यानी कि यहां पर अनेक प्रकार की मस्जिद है

और मुसलमानों से संबंधित धार्मिक स्थल ही पाए जाते होंगे परंतु यहां पर कई हिंदू मंदिर भी हैं और जो कि एक उन्नत स्थापत्य कला का प्रतिनिधित्व करते हैं। इनमें से एक है चंद्रिका देवी मंदिर जो कि लखनऊ में स्थित हैं।

इस मंदिर में लक्ष्मी माता, काली माता और सरस्वती माता की एक संयुक्त मूर्ति है जो की शक्ति विद्या और अनेक प्रकार के सुख साधनों का प्रतिनिधित्व करती हैं।यहां पर प्रतिवर्ष चेत्र और अश्विन नवरात्रों में मेला लगता है।


  • लखनऊ की जामा मस्जिद :

हम सभी पढ़ते हैं कि भारत में जामा मस्जिद भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित है परंतु लखनऊ में भी एक स्थान में जामा मस्जिद स्थित है जो की स्थापत्य कला की दृष्टि से बहुत ही सुंदर हैं।

इसकी स्थापत्य कला भी उसी प्रकार से हैं जिस प्रकार से नई दिल्ली की जामा मस्जिद हैं।

इस स्थानीय जामा मस्जिद का निर्माण मुस्लिम राजा मोहम्मद राय बहादुर शाह द्वारा करवाया गया था और यह लखनऊ के हुसैनाबाद तहसील में स्थित है।

इसमें कई सारे बड़े-बड़े स्तंभों का निर्माण कराया गया है और इसको देखने पर ऐसा लगता है मानो कि यह नई दिल्ली की जामा मस्जिद ही है।

इस मस्जिद की सो जो सबसे बड़ी विशेषता है कि इसमें प्लास्टर करते समय चूने का प्रयोग किया गया था इसके बावजूद भी या आज तक सबसे ज्यादा मजबूत हैं।

 

UP की राजधानी लखनऊ से पहले इसकी राजधानी कौन सी हुआ करती थी 

आज के लखनऊ से पहले Uttar Pradesh ki rajdhani इलाहाबाद हुआ करती थी जिस का वर्तमान नाम प्रयागराज कर दिया गया है

परंतु बाद के कुछ वर्षों में UP की राजधानी को इलाहाबाद से हटा कर लखनऊ में शिफ्ट कर दिया गया परंतु उत्तर प्रदेश का उच्च न्यायालय आज भी इलाहाबाद में स्थित है।

 2019 में इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया गया था। 

 

लखनऊ की जनसंख्या कितनी है 

अगर बात की जाए वर्तमान में तो वर्तमान में लखनऊ की जनसंख्या 45 लाख के करीब हैं जोकि उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा नगर है।

इन 45 लाख में से 21 लाख महिलाओं की जनसंख्या व 23 लाख पुरुषों की जनसंख्या है।

उत्तर प्रदेश का जनसंख्या की दृष्टि से सबसे बड़ा शहर इलाहाबाद है।

 

लखनऊ को उत्तर प्रदेश (UP) की राजधानी कब बनाया गया 

1920 में लखनऊ को UP की राजधानी बनाया गया था इससे पहले UP की राजधानी इलाहाबाद हुआ करती थी परंतु आज भी उत्तर प्रदेश का उच्च न्यायालय इलाहाबाद में ही स्थित है।

 

लखनऊ का क्षेत्रफल कितना है 

लखनऊ का क्षेत्रफल 631 वर्ग किलोमीटर है जबकि संपूर्ण उत्तर प्रदेश का क्षेत्रफल  2.4 वर्ग किलोमीटर में फैला है।

 

लखनऊ में कितनी लोकसभा सीटें हैं 

लखनऊ से वर्तमान सांसद भारत के रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह है जोकि लखनऊ की लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं।

इस लोकसभा सीट से सबसे पहली बार सांसद शिवराज बत्ती नेहरू थी जो कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से संबंधित थी।

 

लखनऊ में कितनी राज्यसभा सीटें हैं 

आमतौर पर राज्यसभा सीटों की गणना किसी क्षेत्र विशेष के आधार पर नहीं की जाती है बल्कि संपूर्ण राज्य के आधार पर होती हैं अतः केवल हम लखनऊ की राज्यसभा सीट को गिन नही सकते है।

उत्तर प्रदेश से राज्यसभा की सर्वाधिक 31 सीटें हैं जो कि किसी अन्य राज्य की तुलना में बहुत अधिक हैं साथ ही यहां की लोकसभा सीटें भी भारत में सबसे अधिक हैं।

भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी उत्तर प्रदेश के वाराणसी लोकसभा सीट से सांसद हैं जो कि उसे एक अति महत्वपूर्ण सीट बना देते हैं।

 

लखनऊ में कुल कितनी विधानसभा सीटें हैं 

लखनऊ में कुल 9 विधानसभा सीटें हैं जो कि कुल 403 सीटों में से हैं।

यह 9 विधानसभा सीटें निम्न है :

  • लखनऊ कैंट
  • सरोजिनी नगर
  • बख्शी तालाब
  • मालियागंज
  • लखनऊ उत्तर
  • लखनऊ पश्चिम
  • मोहनलालगंज
  • लखनऊ पूर्व
  • लखनऊ मध्य

 

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की जलवायु दशाएं कैसी हैं 

उत्तर प्रदेश भारत के उत्तर पूर्वी राज्यों में आता है और इसकी राजधानी लखनऊ की जलवायु दशाएं भी भारत के पूर्वी राज्यों के समान हैं।

लखनऊ के उत्तरी भाग को छोड़ दिया जाए तो इसके अलावा संपूर्ण के संपूर्ण लखनऊ में उष्णकटिबंधीय जलवायु रहती हैं

अर्थात कि यहां सर्दियों में बहुत ज्यादा सर्दी तो यहां पर गर्मियों के मौसम में बहुत ज्यादा गर्मी पड़ती है।

इसका उत्तरी भाग हिमालय पर्वत श्रंखला के करीब होने के कारण यहां पर अधिक समय तक सर्दियों का मौसम रहता है और यहां पर अत्यधिक सुहावनी हवाएं चलती रहती हैं।

लखनऊ में मुख्यता तीन ऋतु होती हैं : शरद ऋतु, ग्रीष्म ऋतु, वर्षा ऋतु।

यहां पर गर्मियों का तापमान 48 डिग्री सेंटीग्रेड तक भी पहुंच जाता है क्योंकि उष्णकटिबंधीय रेखाओं के समीप होने के कारण भी इसका उच्च तापमान होता है

इसके अलावा सर्दियों में इस का तापमान 18 से 19 डिग्री सेंटीग्रेड या कई बार इससे बहुत ज्यादा नीचे भी चला जाता है क्योंकि इस समय यहां पर हिमालय से आने वाली सर्द हवाएं चलती हैं।

यहां पर यदि वर्षा की बात की जाए तो कई बार अत्यधिक वर्षा तो कई बार इस क्षेत्र को सूखे का सामना भी करना पड़ता है

परंतु आम तौर पर यहां पर 170 सेंटीमीटर तक भी वर्षा हो जाती है। यहां की औसत वर्षा 61 सेंटीमीटर से लेकर 170 सेंटीमीटर तक है।

यहां की संपूर्ण ऋतु को अलग-अलग महीनों में बांटा जा सकता है, यदि साल के पहले 4 महीनों की बात की जाए तो यहां पर हल्की हल्की सर्दी का मौसम और उसके अगले 4 महीनों की बात की जाए तो यहां पर वसंत ऋतु का मौसम रहता है।

इसके साथ ही 4 महीनों में सर्दी और गर्मी का मौसम भी रहता है।

यहां की वर्षा ऋतु पर उत्तर प्रदेश की पूरी कृषि आधारित हैं क्योंकि वर्षा के जल से ही यहां पर अधिकतर सिंचाई की जाती हैं।

 

लखनऊ में कौन-कौन सी फसलें पूरी जाती है 

उत्तर प्रदेश की संपूर्ण ऋषि अधिकतर मात्रा में यहां के वर्षा जल पर आधारित हैं और यहां पर लगभग सभी प्रकार की फसलें बोई जाती हैं

क्योंकि यहां पर हर प्रकार की ऋतु  पाई जाती हैं जिससे फसलों को फलने फूलने का उचित समय और उचित परिवेश मिलता है।

यहां पर रबी, खरीफ, जायद तीनों प्रकार की फसलें बोई जाती हैं।

यहां पर यदि बात की जाए रवि की फसलों में गेहूं, चना, सरसों, लाही, आलू चावल आदि बोली जाती है।

इन रवि की फसलों को शरद ऋतु में पूजा जाता है और साल के शुरूआती महीनों में इसे काट लिया जाता है।

यहां पर खरीफ की फसलों में मुख्य रूप से कपास, गन्ना, चावल, बाजरा, मक्का आदि बोया जाता है। खरीफ की फसलों को ग्रीष्म ऋतु में बोया जाता है और साल के अंतिम महीनों में इसे काट लिया जाता है।

यहां पर जायद की फसलों में खीरा ककड़ी, तरबूजा, खरबूजा इत्यादि फसलें बोई जाती हैं क्योंकि इन्हें बहुत ज्यादा पानी की आवश्यकता होती है अतः इन्हें वर्षा ऋतु में बोया जाता है।

इसके साथ ही यहां पर अनेक प्रकार के फल भी उगाए जाते हैं जैसे कि अनार, अनानास, कटहल, अंगूर इत्यादि।

 

लखनऊ कौन सी नदी के किनारे स्थित है 

लखनऊ गोमती नदी के किनारे स्थित है जोकि इसके चारों और अवस्थित हैं।

इस नदी के द्वारा यहां की कुछ पानी की आवश्यकता और को भी पूरा किया जाता है साथ ही गोमती नदी गंगा नदी की सहायक नदी भी मानी जाती है जिस कारण से इसका महत्व और ज्यादा बढ़ जाता है।


 

FAQs : Uttar Pradesh ki rajdhani

सवाल : उत्तर प्रदेश की राजधानी कौन सी है।

UP की राजधानी लखनऊ है।

सवाल : लखनऊ का उपनाम क्या है।

किसका उपनाम नवाबों का शहर है क्योंकि प्राचीन काल में यहां पर मुस्लिम नवाबों का शासन था।

सवाल : लखनऊ का क्षेत्रफल कितना है।

इसका क्षेत्रफल 631 वर्ग किलोमीटर स्क्वायर हैं।

सवाल : लखनऊ में कुल कितनी लोकसभा सीटें हैं।

यहां की 1 लोकसभा सीट से भारत के रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह सांसद हैं।

सवाल : लखनऊ मे कुल कितनी विधानसभा सीटें हैं।

यहां पर कुल 9 विधानसभा सीटें हैं।

सवाल :लखनऊ किस नदी के किनारे स्थित है।

लखनऊ गोमती नदी के किनारे स्थित है जो गंगा नदी की सहायक नदी भी हैं।

सवाल : UP की राजधानी की जनसंख्या कितनी है।

लखनऊ की जनसंख्या 45 लाख है जिसमें से 21 लाख महिलाएं और 23 लाख पुरुष हैं।

सवाल : उत्तर प्रदेश की पहली राजधानी कौन सी थी।

पहली राजधानी इलाहाबाद थी जिस का वर्तमान नाम प्रयागराज कर दिया गया है।

सवाल : क्या लखनऊ में उत्तर प्रदेश का उच्च न्यायालय स्थित है।

नहीं, उत्तर प्रदेश का उच्च न्यायालय इलाहाबाद में स्थित है।

सवाल : क्या जामा मस्जिद भारत में सिर्फ भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित है।

नहीं, भारत में एक और जामा मस्जिद है जो कि लखनऊ में स्थित हैं इसे स्थानीय जामा मस्जिद के रूप में जाना जाता है।


Conclusion

इस ब्लॉग लेख में आपने Uttar Pradesh ki rajdhani बारें में जाना। आशा करते है आप उत्तर प्रदेश की राजधानी का नाम क्या है का हिन्दी मे क्या अर्थ होता है की पूरी जानकारी जान चुके होंगे।

अगर आपका इससे संबन्धित किसी भी तरह का सवाल है तब नीचे कमेन्ट में पूछ सकते है जिसका जवाब जल्द से जल्द दिया जायेगा।

आपको लगता है कि इसे दूसरे के साथ भी शेयर करना चाहिए तो इसे सोश्ल मीडिया पर सबके साथ इसे साझा अवश्य करें। शुरू से अंत तक इस लेख को पढ़ने के लिए आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया …

Leave a Comment