Bharat ka sabse uncha jalprapat (Waterfall) kounse Hai

Bharat ka sabse uncha jalprapat : भारत को उसकी ख़ूबसूरती के लिए भी जाना जाता है भारत में बड़े-बड़े पहाड़, नदियाँ, झीले, झरने है जो इसके ख़ूबसूरती में रंग भरते है

भारत के हर राज्य में कई झरने पाए जाते है भारत की खूबसूरती झरनों से भी बढ़ती है भारत में लगभग कुल कितने झरने है इसका अनुमान लगा पाना मुश्किल है

पर हम आपको खाश, बड़े, और मशहूर झरनों के बारे में तो बता ही सकते है दुनिया में कुल 37 जलप्रपात है उसमे से 2 भारत के है भारत का सबसे ऊँचा जलप्रपात कर्नाटक में पाया जाता है

हम आपको आज भारत के सब से ऊँचे 20 जलप्रपातों के बारे में बताएँगे जिनको हमने  उनकी ऊँचाई के हिसाब से चुना है हम सबसे बड़े से शुरू करेंगे और आगे बढ़ते जाएँगे

 

Bharat ka sabse uncha jalprapat
Bharat ka sabse uncha jalprapat ka naam

 

भारत का सबसे ऊँचा जलप्रपात – Bharat ka sabse uncha jalprapat

 भारत का सबसे ऊँचा जलप्रपात Kunchikal Falls है 

1. कुंचिकल फाल्स


Bharat ka sabse uncha jalprapat


  • इसकी ऊंचाई 455 मीटर है और यह अभी तक का Bharat ka sabse uncha jalprapat है
  • यह कर्नाटक के शिमोहा जिले में स्थित है

इस जलप्रपात का निर्माण वाराही नदी के कारण हुआ है, पहाड़ों से इस नदी है प्रवाह होता है जो की 455 मीटर की ऊँचाई से ऊपर से नीचे सीधा गिरने के तरीके से गिरता है

जिसके कारण एक मनमोहक और प्रभावशाली दृश्य प्रगट होता है इस नदी का पानी नदी के पास स्थित मंदिर के पास बने पहाड़ो से होते हुए नीचे आता है पहाड़ों से टकराकर उनके बीच से नीचे आने का दृष्ट बहुत ही आश्चर्य करने वाला होता है

यह पूरी दुनिया में ऊँचाई में 116 नंबर पर आता है यह जलप्रताप हुलिकल घाटी मंदिर के पास में स्थित है

इसको देखने जाने के लिए सबसे अच्छा समय बारिश का मौसम होता है, जुलाई से अगस्त के बीच में इसका बहाव बहुत ज्यादा होता है

जिसके कारण आपको काफी अच्छा दृश्य देखने को मिल सकता है  इस घाटी के आस पास की हरियाली भी इस झरने के साथ एक मनमोहक दृष्ट प्रगट करती है

वाराही नदी का इस प्रकार से गिरना एक विचित्र दृश्य प्रगट करता है वाराही नदी के साथ कई और नदियों का पानी भी इसमें आके मिलके गिरता है

इसको देख के ऐसा लगता है जैसे एक बहती नदी को हम उल्टा देख रहे है और उसका सारा पानी ग्रेविटी के कारण नीचे गिरा जा रहा है

इसके नीचे एक विद्युत् उर्जा को पैदा करने के लिए हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्लांट बनाया गया है

इसका पानी एक ऊँचाई से मणि डैम में गिरता है जिससे पानी इसमें एकत्र भी होता है और विद्युत् उर्जा बनाने की प्रक्रिया भी आगे बढ़ती रहती है

डैम बनाने के कारण यहाँ पर जाना अर्थात इसके पास जाना मना है इसके पास जाने के लिए ख़ास इज़ाज़त की ज़रुरत पड़ती है

 

2.नोह्स्न्गिथिंग फाल्स या मव्स्मी फाल्स – Nohsngithing falls Mawsmai falls


Bharat ka sabse uncha jalprapat


भारत का दूसरा Sabse uncha jalprapat मव्स्मै फाल्स है

  • इसकी ऊंचाई 315 मीटर है
  • यह मेघालय राज्य के जिले के उत्तरी खासी हिल्स पर स्थापित है

भारत की सात बहनों के बारे में तो सुना ही होता सात बहने सात राज्यों को दर्शाते है जिसमे (असम, अरुणांचल प्रदेश, मणिपुर, नागालैंड, त्रिपुरा, मिज़ोरम और मेघालय शामिल है

और यह उन नदियों के प्रवाह से ही बना जलप्रपात है इसको मव्स्मै फाल्स भी कहते है

क्योंकि ये मव्स्मै गाव के पास है इस जल प्रताप की चौड़ाई लगभग 70 मीटर होगी यह भारत में सबसे ऊँचे जलप्रपातों में से एक है

बारिश के मौसम में तो इस झरने का पानी खासी पहाड़ियों के चूना पत्थर की चट्टानों के चोटी तक पहुच जाता है

और वहाँ से गिरता है सूर्या उदय के समय यह सूरज की किरणों से रोशन हो जाते है और सूर्या अस्त के समय भी यह सूर्या अस्त को खुद में प्रदर्शित करने लगते है

यह चेरापूंजी से 4 किलोमीटर की दूरी पर है इसे देखने के लिए लोग दूर-दूर से आते है और चेरापूंजी के लोगों के लिए ये शान है

 

3.दुधसागर फाल्स – Dudhsagar falls


Bharat ka sabse uncha jalprapat


 

भारत का तीसरा सबसे ऊँचा जलप्रताप है Dudhsagar falls है 

  • इस झरने की ऊंचाई 310 मीटर है
  • यह झरना गोवा में स्थित है

इस झरने को दूध से सागर जैसे दिखने के कारण दुधसागर फाल्स कहा जाता है, यह चार झरनों से बना है इसके पीछे एक कहानी भी है

जिसका कुछ हिस्सा वास्तविक नही लगता यह गोवा और कर्नाटक के बोर्डर के पास है ! ये पश्चिमी घाटी पर रहने वाले लोगो के लिए आकर्षण का केंद्र है यह मंदोदरी नदी के पानी का बहाव है

इसकी चौड़ाई लगभग 30 मीटर है यह जिस पहाड़ से गिर रहा है उस पहाड़ पर घना जंगल है जिनमें बहुत से जानवर रहते है यह भी एक आकर्षण दृश्य प्रगट करता है

इसके साथ एक कहानी भी जुडी हुई है कहते है पहले समय में यहाँ पर एक राजा रहते थे जिनका इस घाटी और इस झरने पर राज था!

उनकी एक बहुत सुन्दर कन्या थी जो इस झरने के नीचे नहाती थी एक दिन उससे उसका दूध से भरा ग्लास पानी में गिर गया जिससे वह दूध पानी में गिर गया और उसे दूध का सागर कहने लगे यहाँ पर बहुत सारे पर्यटक आते है हर साल हर समय यहाँ पर पर्यटक आते है

 

4.क्य्न्रेम फाल्स – kynrem falls


Bharat ka sabse uncha jalprapat


भारत का चौथा सबसे ऊँचा जलप्रताप kynrem falls है

  • इसकी ऊंचाई 305 मीटर की है
  • यह मेघालय में स्थित है
  • यह तीन झरनों से मिलके बना है

यह चेरापूंजी से 12 किलोमीटर दूर है यह ठंग्खारंग  पार्क के अन्दर बना हुआ है

यह हमें मानसून से पहले देखने को मिलते है गहराई में गिरने की वजह से एक बहुत ही अच्छी आवाज़ सुनने को मिलती है

पानी गिरने की जो हमें किसी और जलप्रताप में नहीं सुनने को मिलेगा इस झरने से पूरे साल पानी नही गिरता, पर ऐसा कभी ही हुआ होगा की पूरे दो या तीन महीने तक इससे पानी न गिरा हो

सबसे अच्छा दृश्य इस झरने का पार्क से दीखता है जहा पर यह स्थित है इसकी खासियत इसकी गहराई होना है यह भी सात बहनों के राज्यों से बहते नदी के पानी का बहाव है

 

5.मीन्मुत्टी फाल्स – Meenmutty falls

Bharat ka sabse uncha jalprapat


इंडिया का पांचवा सबसे ऊँचा जलप्रताप Meenmutty falls है

  • यह 297 मीटर ऊँचा है
  • यह केरला राज्य के वायानाड जिले में स्थित है
  • यह तीन झरनों से मिलके बना है

यह कल्पेत्ते से 29 किलोमीटर दूर है इसमें बहुत सारे मलयालम की मछलियाँ पायी जाती है

इसको हम मलयालम के रोड से भी देख सकते है मीनमुट्टी जलप्रताप बारिश के समय में बहुत ही खतरनाक होता है

इसके तेज प्रभाव की वजह से बहुत लोग इसमें डूब गए है पर यह एक बहुत ही मनमोहक दृश्य होता है पर्यटकों को ये बहुत पसंद आता है इसमें मीन का मतलब मछली और मुट्टी का मतलब मिटटी से है !

कम बहाव होने पर हम इसको छू भी सकते है और इस झरने के नीचे भी जा सकते है इसके आस पास बैठने की भी व्यवस्था है जिससे हम इसका आनंद और अच्छे से ले सकते है

 

6.थालैयर फाल्स – Thalaiyar falls

Bharat ka sabse uncha jalprapat


भारत का छेवा सबसे ऊँचा waterfalls है

  • इसकी ऊंचाई 297 मीटर है
  • यह तमिलनाडू राज्य के डिंडीगुल जिले में स्थित है

इस झरने का पानी मंजलर नदी से आता है यह दम दम के पहाड़ों से एकदम साफ़ साफ़ दीखता है

झरने के आस पास के पत्थरों की दीवारी उसको केन्द्रित रूप से गिरने में मदत करती है यह एक ही लहर में गिरता है

इसके गिरने के दृश्य का नज़ारा दर्शक आराम से देख सकते है क्योंकि इसके पानी गिरने की आवाज़ नही आती है इस झरने का पानी बहुत ही दूषित होता है

दर्शक इसको न पीये यही सलाह दी जाती है इस नदी का पानी झरने से बहके 9 किलोमीटर दूर पेरूमल गाँव तक भी आता है कहा जाता है की इस झरने के पानी के नीचे बम्बू लकड़ी में तमिलनाडु की देवी कामाक्षी देवी का जन्म हुआ था इसलिए इस झरने का महत्त्व धार्मिक तौर पर भी है

 

7.बरकाना फाल्स – Barkana falls


Bharat ka sabse uncha jalprapat


Barkana falls भारत का सांतवा highest waterfall है

  • इसकी ऊंचाई 259 मीटर है
  • यह कर्नाटक के शिमोगा जिले में स्थित है

यह झरना सीथा नदी से बहता है दुनिया के झरनों में ये 353 नंबर पर आता है यह पश्चिमी घाटी के बीचो बीच में आता है यह जंगल के बीचो बीच है यह भी कर्नाटक से ही है

 

8.जोग फाल्स – jog falls


Bharat ka sabse uncha jalprapat


यह भारत का आठवा सबसे ऊँचा जलप्रताप है

  • इसकी ऊंचाई 253 मीटर ऊँचा है
  • यह भी कर्नाटक के शिमोगा जिले में स्थित है

यह पश्चिमी घाट पर सरस्वती नदी पर स्थित है यह ऐसा झरना है जो सिर्फ बरसात के मौसम में और बारिश होने में ही दिखता है

यह स्वयं बहने वाले झरनों की लिस्ट में 36 नंबर पर आता है,  सरस्वती नदी का पानी ऊँचे पहाड़ो से होते हुए नीचे गिरता ही जिसे हम जोग फाल्स कहते है

इसके कारण सरकार ने यहाँ पर लिंगानामाक्की डैम बना है बारिश में और बाढ़ आने के बाद तो इसका अलग ही नज़ारा दीखता है सरस्वती नदी के बारे में तो आप जानते ही होंगे उसके पानी के ज्यादा होने पर ही इस झरने की सुन्दरता बढ़ती है

 

9.खान्दधर फाल्स – khandadhar falls

Bharat ka sabse uncha jalprapat


यह भारत का नौवा सबसे ऊँचा जलप्रताप है

  • इसकी ऊंचाई 244 मीटर है
  • यह ओडिशा में सुंदरगढ़ जिले में उपस्थित है

यह सुंदरगढ़ जिले के नन्दपनी में स्थित है यह रौर्केला से 104 किलोमीटर दूर है और केंदुझार से 82 किलोमीटर है

यह एक तलवार जैसा लगता है खंडा का मतलब ही तलवार होता है, और धारा का मतलब जलप्रताप होता है

हमें देखने में लगता है ये पहाड़ो से गिरते हुए एक बहुत ही मनमोहक दृश्य प्रकट करता है  इसके जंगल बहुत घने है इस झरने को यहाँ की कंकाला देवी की कृपा है यह भी माना जाता है

 

10.वन्तावंग फाल्स -Vantawng falls

Bharat ka sabse uncha jalprapat


 

यह भारत का दसवा सबसे ऊँचा जलप्रताप है

  • इसकी ऊंचाई 229 मीटर की है
  • यह मिज़ोरम के सेछिप जिले में स्थित है
  • यह दो झरनों से मिलके बना है

यह सेछिप के ठेन्ज़व्ल से 5 किलोमीटर दूर है यह मिज़ोरम राज्य का सबसे बड़ा जलप्रताप है

यह मिज़ोरम की राजधानी से 57 किलोमीटर दूर है वनवा नदी के पानी का बहाव से यह झरना बहता है

इसका नाम एक तैराक के नाम पर पड़ा है वन्ताव्न्गा नाम का व्यक्ति मझली जैसे एकदम तैरता था उसके तैराकी को देखते हुए उसे सम्मान देने के लिए उसके नाम पर इस झरने का नाम रख दिया है इसको देखने के लिए एक टावर भी बनाया गया है


 

अन्य भारत का 10 सबसे ऊँचा जलप्रपात 

11.कुने फाल्स (kune falls)

यह भारत का ग्यारवा सबसे ऊँचा जलप्रताप है

  • इसकी ऊंचाई 200 मीटर है
  • यह महाराष्ट्र राज्य के पुने जिले में स्थित है
  • यह तीन झरनों से मिलके बना है

12.थोसेघर फाल्स (thoseghar waterfalls)

यह भारत का बारवां सबसे ऊँचा जलप्रताप है

  • इसकी ऊंचाई 200 मीटर है
  • यह महारास्ट्र के सतारा जिले में स्थित है
  • यह सिर्फ एक ही झरना है

13.सूचिपारा फाल्स (soochipara falls)

यह भारत का तेरवा सबसे ऊँचा जलप्रताप है

  • इसकी ऊंचाई भी 200 मीटर है
  • यह केरला राज्य के वायानद जिले में स्थित है
  • यह तीन झरनों से मिलके बना है

14.बहुती फाल्स (bahuti falls)

यह भारत का चौदवा सबसे ऊँचा जलप्रताप है

  • इसकी ऊंचाई 198 मीटर है
  • यह मध्यप्रदेश के रेवा जिले में स्थित है
  • यह दो झरनों से मिलके बना है

15.मगोड़ फाल्स (magod falls)

यह भारत का पन्द्रवा सबसे ऊँचा जलप्रताप है

  • इसकी ऊंचाई 198 मीटर है
  • यह कर्नाटक राज्य  के उत्तर कन्नड़ जिले में स्थित है
  • यह भी दो झरनों से मिलके बना है

16.जोरंदा फाल्स (joranda falls)

यह भारत का सोलवा सबसे ऊँचा जलप्रताप है

  • इसकी ऊँचाई 161 मीटर है
  • इसकी ऊंचाई ओडिशा राज्य के मयुरभंज जिले में स्थित है
  • यह मौसमी झरना है जो सिर्फ बारिश के मौसम में बाढ़ आने पर आता है

17.हेब्बे फाल्स (hebbe falls)

यह भारत का सत्तारवा सबसे ऊँचा जलप्रताप है

  • इसकी ऊंचाई 168 मीटर की है
  • यह कर्नाटक राज्य के चिक्कामागालुरु जिले में स्थित है
  • यह 2 झरने से मिलके बना है

18.दुदुमा फाल्स (duduma falls)

यह भारत का अठरावा सबसे ऊँचा जलप्रताप है

  • इसकी ऊंचाई 157 मीटर है
  • यह ओडिशा और मध्यप्रदेश के बॉर्डर पर स्थित है
  • यह भी मौसमी झरना है

19.पलानी फाल्स (palani falls)

यह भारत का उन्नीसवा  सबसे ऊँचा जलप्रताप है

  • इसकी ऊंचाई 150 मीटर है
  • यह हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में स्थित है
  • इसका पानी बहुत ही ठंडा रहता है

20.लोध फाल्स (lodh falls)

यह भारत का बीसवां सबसे ऊँचा जलप्रताप है

  • इसकी ऊंचाई 143 मीटर है
  • यह झारखण्ड राज्मेंय के लातेहार जिले में स्थित है
  • यह 2 झरनों से मिलके बना है

conclusion

आज के लेख में हम ने जाना Bharat ka sabse uncha jalprapat कौनसा है, भारत झीलों का और जलप्रतापों का देश है इन सब जलप्रतापों की सुंदर अतुल्य है !

यहाँ पर इससे भी ज्यादा सुंदर सुंदर जलप्रताप है पर हमने इसमें ऊंचाई के हिसाब से बताया है, हर राज्य में एक तो सुंदर जलप्रताप है, और तो और सबसे ज्यादा जलप्रताप भारत के दक्षिणी हिस्से में और पश्चिमी हिस्से में है

हम ने आज भारत के 10 सबसे ऊंचे जलप्रपात और उनकी फोटो आप के साथ साझा करने की कोशिश की है उम्मीद करते है आप को हमारे द्वारा शेयर किया ये लेख आप को पसंत आया होगा

यदि लेख संबंधित कोई भी सवाल या सुजाव आप के मन में तो आप निचे कमेंट में कर सकते, हम उस कमेंट पर जरूर रिप्लाई देंगे , इस लेख को शुरवात से अंत तक पढ़ने के लिए शुक्रिया

Leave a Comment