NCC ki sthapna kab hui – एनसीसी की स्थापना कब हुई

आज का हमारा विषय रहने वाला है, भारत में Ncc ki sthapna kab hui और इससे संबंधित वे सभी जानकारियां जो शायद आपको पता हो।

शुरू करते हैं आज के हमारे इस लेख को जिसमें हम बात करने वाले हैं NCC जिसका Fullform National Cadet Corps है

आज के इस हमारे ज्ञान प्रद लेख में हम एनसीसी की स्थापना से लेकर उसकी विशेषताओं तक और एनसीसी भारत में क्यों स्थापित की गई से लेकर उसके उद्देश्य तक की चर्चा करने वाले हैं।

एनसीसी को यदि कहा जाए तो यह भारत का वह सैन्य बल है, जो आगे आने वाले भविष्य में हमारे देश की सर्वोच्च सेनाओं की बागडोर को संभालेंगे।

 

NCC ki sthapna kab hui
NCC ki sthapna kab hui the

 

एनसीसी की स्थापना कब हुई थी (NCC ki sthapna kab hui)

 अगर बात की जाए NCC की तो इसकी स्थापना 16 अप्रैल 1948 को भारत में की गई थी  

इसका मुख्यालय भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित है।

भारत के नौजवान युवा और युवतियां जो भारतीय सेना के विभिन्न अंगों में जाने की चेष्टा रखते हैं, उनके लिए यह एक पहला कदम होता है और एनसीसी के जरिए वह भारतीय सेना के विभिन्न अंगों में अपनी सेवाएं दे सकते हैं।

एनसीसी की स्थापना नेशनल कैडेट कोर अधिनियम के तहत की गई थी जो कि 1948 में बना था।

इसी 1948 के नेशनल कैडेट कोर अधिनियम में वे सभी बातें उल्लेखित हैं जो एनसीसी के बारे में आवश्यक हैं।

 

एनसीसी (NCC) की फुल फॉर्म क्या है 

एनसीसी की फुल फॉर्म नेशनल कैडेट कोर हैं। इसका अर्थ होता है भारत के वह प्रारंभिक प्रशिक्षु सैनिक जो आगे चलकर भारतीय सेना के विभिन्न अंगों में अपनी सेवाएं प्रस्तावित करेंगे।

आमतौर पर भारत में इसकी शुरुआत स्कूली स्तर पर ही की जाती हैं और इसमें विभिन्न प्रकार के सर्टिफिकेट के द्वारा किसी भी छात्र की योग्यता का आकलन किया जाता है,

अर्थात कि इसमें विभिन्न प्रकार के अभ्यास और परीक्षाओं के आधार पर छात्र और छात्राओं को विभिन्न विभिन्न प्रकार के प्रशस्ति पत्र दिए जाते हैं।

 

एनसीसी की स्थापना किसके द्वारा की गई थी 

एनसीसी की स्थापना 1948 में हृदय नाथ कंजरू (H. N. Kunzru) द्वारा की गई थी हालांकि इससे पूर्व भी 1942 में अंग्रेजों द्वारा इसकी स्थापना द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान कर दी गई थी

परंतु वह इस नाम से नहीं जानी जाती थी और उसका उद्देश्य भी एनसीसी से अलग था क्योंकि उसकी स्थापना केवल द्वितीय विश्व युद्ध के लिए ही की गई थी

और द्वितीय विश्व युद्ध के बाद उसका कोई अस्तित्व नहीं रहने वाला था और ऐसा ही हुआ अंग्रेजों द्वारा उसे बाद में समाप्त कर दिया गया।

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद जब इसे समाप्त कर दिया गया तो 1948 में गवर्नर जनरल द्वारा नेशनल कैडेट कोर एक्ट को स्वीकार कर लिया गया और इस प्रकार से आज की वर्तमान एनसीसी हमारे अस्तित्व में आई।

 

एनसीसी (NCC) का कोर्स कितने साल का होता है 

जैसा कि हम जानते हैं आमतौर पर एनसीसी के कोर्स को स्कूली स्तर पर ही संचालित कर दिया जाता है और उसके बाद या छात्र पर निर्भर करता है कि वह इसे आगे कितने समय तक संचालित करता रहता है।

इसमें विभिन्न विभिन्न समय पर विभिन्न विभिन्न प्रकार की प्रशस्ति पत्र और  पदको द्वारा छात्रों को सम्मानित किया जाता है जिससे कि उनकी गुणवत्ता का अंदाजा लगाया जा सकता है।

स्कूली स्तर पर इसकी शुरुआत कक्षा नौ से ही हो जाती हैं जो कि ग्रेजुएशन तक चलती रहती हैं,

अतः इस प्रकार से एनसीसी की अवधि 5 साल की होती हैं और इसमें विभिन्न प्रकार के प्रशस्ति पत्र और सर्टिफिकेट भी दिए जाते हैं, जैसे

  • A सर्टिफिकेट
  • B सर्टिफिकेट 
  • C सर्टिफिकेट

इस प्रकार से इन 5 सालों में एक विद्यार्थी को इतना प्रशिक्षित कर दिया जाता है कि वह भारतीय सेना में जाने के लायक तक हो जाता है

और साथ ही जो इसकी सबसे बड़ी विशेषता है कि एनसीसी करने के लिए किसी भी छात्र को किसी भी प्रकार की फीस का भुगतान नहीं करना होता है।

यह पूर्णता फ्री होती हैं और साथ ही स्कूल के प्रबंधन द्वारा भी आवश्यक हैं कि वह समय-समय पर एनसीसी से संबंधित सभी प्रकार की गतिविधियों को अपने विद्यालय स्तर से लेकर संभाग स्तर तक आयोजित करवाए

और इससे संबंधित सभी प्रकार की सूचनाओं को विद्यार्थियों तक प्रसारित भी करें।

 

NCC Certificate के फायदे जानें

अगर, इतनी सारी जानकारी सुनने के बाद अगर आप का भी मन कर रहा है कि मैं भी एनसीसी जॉइन करूं या अपने बच्चों को ज्वाइन करवा हूं तो इसके आगे आने वाले भविष्य में क्या-क्या फायदे होंगे तो अब हम जाने वाले हैं

एनसीसी को करने के मुख्यता क्या फायदे रहते हैं।

1) जैसा कि हम पहले ही जान चुके हैं इसको करने के बाद आपको विभिन्न प्रकार के सर्टिफिकेट और पदको द्वारा सम्मानित किया जाता है,

जिसके आधार पर आपको कई सारे विभागों में कई प्रकार की छूट मिलती हैं, जैसे कि पुलिस विभाग या भारतीय सेना या भारतीय वायु सेना या भारतीय नौसेना इत्यादि।

आपको इन प्रशस्ति पत्रों के आधार पर अंकों में भी छूट दी जाती हैं

और साथ ही अंतिम वरीयता सूची में यदि आपके पास इस प्रकार के प्रशस्ति पत्र हैं तो आपको अन्य छात्रों की तुलना में ज्यादा वरीयता दी जाती हैं और आपके चयनित होने के आसार भी काफी ज्यादा बढ़ जाते हैं।


2) एनसीसी के अभ्यास में आपको विभिन्न प्रकार की सामान्य शिक्षा दी जाती हैं जो कि भारतीय सेना से संबंधित होती हैं

और आप को आगे आने वाले समय में अगर आप भारतीय सेना को अपने भविष्य के रूप में देखते हैं तो वहां पर यह आपके लिए लाभकारी सिद्ध होती हैं

क्योंकि आपको इस एनसीसी की पूरी ट्रेनिंग में वे सभी सामान्य बातें पहले ही सिखा दी जाती है, जो आपको भारतीय सेना को ज्वाइन करने के बाद सबसे पहले सिखाई जाएंगी अर्थात की यह 5 साल की ट्रेनिंग करने के बाद आप लगभग एक आधे सैनिक की तरह तैयार हो जाते हैं।


3) अगर आप एनसीसी की ट्रेनिंग को ज्वाइन करते हैं तो यहां पर आपको विभिन्न प्रकार के एडवेंचर से संबंधित गतिविधियां भी कराई जाती हैं,

जैसे कि नौकायान और पैराग्लाइडिंग साथ ही आपको अन्य प्रकार की डिजास्टर मैनेजमेंट और फर्स्ट एड जैसी कई सारी चीजों के बारे में जानकारी दी जाती है, जो आपके लिए आपातकालीन समय में बहुत ज्यादा काम आती है।


4) एनसीसी को ज्वाइन करने का चौथा फायदा यह है कि आपको यह ट्रेनिंग पूर्णता आत्मविश्वास से भर देती हैं

और आपके कुशल नेतृत्व को बढ़ावा देती हैं। एनसीसी को ट्रेनिंग करने के बाद आप एक कुशल नेतृत्वकर्ता भी बन जाते हैं

जो कि भारतीय सेना में जाने के लिए सबसे आवश्यक तत्व हैं अर्थात की आपको यह आना चाहिए कि आप अपनी संपूर्ण सेना की टुकड़ी को किस प्रकार से नेतृत्व प्रदान कर आएंगे।


5) एनसीसी की ट्रेनिंग करने के कई शैक्षणिक फायदे भी हैं, इनमे से जो सबसे बड़ा फायदा है, वह यह है कि यदि आपको अपने किसी मनपसंद कॉलेज में एडमिशन लेना है, तो कई बार वहां पर एनसीसी के छात्रों के लिए विशेष प्रकार की सीटें आरक्षित होती हैं

और उन सीटों पर केवल एनसीसी के ही विद्यार्थी फॉर्म भर सकते हैं जिनके पास एनसीसी के विभिन्न प्रकार के प्रशस्ति पत्र उपलब्ध हैं।


6) एनसीसी के प्रशस्ति पत्र के आधार पर विद्यार्थियों को कई बार स्कूल अटेंडेंस या फिर कॉलेज अटेंडेंस में भी कई प्रकार की रियायत प्रदान की जाती हैं।


7) एनसीसी प्रशस्ति पत्र का जो सबसे बड़ा फायदा होता है, वह भारत सरकार की सरकारी नौकरियों या फिर किसी राज्य सरकार की सरकारी नौकरियों में होता है,

जहां आपको एनसीसी के विभिन्न प्रशस्ति पत्र के हिसाब से अन्य अंक प्रदान किए जाते हैं जो कि आपको अन्य छात्रों से कई गुना आगे ले जाते हैं।

उदाहरण के तौर पर यदि आप दिल्ली पुलिस कांस्टेबल में भर्ती होना चाहते हैं और यदि आपके पास एनसीसी का C सर्टिफिकेट है तो आपको अंतिम वरीयता सूची में 5 नंबर दिए जाएंगे।


8) अगर आप अपनी उच्च माध्यमिक शिक्षा के बाद किसी भी प्रकार के विशेष कोर्स के लिए कोई संस्थान में प्रवेश लेना चाहते हैं, तो आप को विभिन्न प्रकार की छात्रवृत्ति भी प्रदान इन्हीं प्रशस्ति पत्रों के आधार पर की जाती हैं।


9) हर साल एनसीसी द्वारा एक राष्ट्रीय स्तर पर सम्मेलन आयोजित किया जाता है, जिसमें की विभिन्न राज्यों के छात्र और छात्राएं भाग लेते हैं

इससे हमें अन्य प्रकार की संस्कृतियों और भाषाओं को जानने का मौका भी मिलता है, जो कि इसका एक अन्य ही फायदा है।


10) इसके अलावा जो एनसीसी ट्रेनिंग करने का सबसे बड़ा फायदा हमें अपने जीवन में मिलता है, वह है अनुशासन और एकता के साथ कार्य करना।

इस संपूर्ण एनसीसी की 5 सालों की ट्रेनिंग में हमें यह तक सिखा दिया जाता है कि अपने साथी को अपने साथ हमें किस प्रकार से आगे लेकर चलना है और अपनी संपूर्ण सैन्य टुकड़ी को हमें किस प्रकार से अनुशासन में रखना है।

 

एनसीसी (NCC) में कितनी सैलरी मिलती है

अगर आप एनसीसी को एक सरकारी नौकरी की तरह देख रहे हैं, जो कि भारतीय सेना के द्वारा कराई जाती हैं तो यह पूर्णता गलत है

अर्थात की इसमें किसी भी प्रकार की सैलरी नहीं दी जाती हैं परंतु इसमें कुछ आधारों पर स्टाइपेंड जरूर दी जाती हैं जो कि मासिक आधार पर उपलब्ध होती हैं।

स्टाइपेंड भी छात्रों को इसलिए दी जाती है ताकि वह अपने एनसीसी से संबंधित वस्तुओं को खरीद पाए और अन्य उन सभी वस्तुओं को भी खरीद पाए जो कि एनसीसी की ट्रेनिंग के दौरान बेहद जरूरी होती हैं।

जैसा कि हम जानते हैं कि एनसीसी एक 5 सालों में होने वाले भारतीय सेना से संबंधित ट्रेनिंग है जो कि आने वाले युवाओं को भारतीय सेना के विभिन्न अंगों में जाने के लिए तैयार करती हैं।

 

एन सी सी के नियम क्या है 

एनसीसी में जो मुख्य रूप से एक छात्र या छात्रा को जो नियम अपनाने पड़ते हैं या जिनका पालन करना पड़ता है, वह निम्नलिखित हैं।

  1. हमारे द्वारा हर आज्ञा का पालन हमेशा एक मुस्कान के साथ किया जाना चाहिए और उसे करते समय हमें किसी प्रकार की अनिच्छा नहीं प्रकट होनी चाहिए।
  2. हमारे द्वारा हर कार्य को समय पर किया जाना चाहिए।
  3. हमारे द्वारा हर कार्य को बेहद परिश्रम के साथ और बिना किसी समस्या के द्वारा किया जाना चाहिए।
  4. हमें कभी हमारे जीवन में झूठ नहीं बोलना चाहिए और सदैव भी सदाचार का पालन करना चाहिए।
  5. हमें अपने जीवन में अकर्मण्यता को नहीं अपनाना चाहिए और सदैव हर कार्य के लिए आगे बढ़ कर छत पर रहना चाहिए।

 

एनसीसी का आदर्श वाक्य क्या है 

जैसा कि आप जानते हैं कि हर किसी संस्थान का अपना एक आदर्श वाक्य होता है, जो कि उसके कार्मिकों को उत्साहित करता है और अपने कार्यों के प्रति कर्मठ बनाता है।

एनसीसी का जो आदर्श वाक्य है वह है ‘एकता और अनुशासन’

इस आदर्श वाक्य के द्वारा हम एनसीसी की स्थापना के संपूर्ण उद्देश्य को समझ सकते हैं, कि एनसीसी की स्थापना भारत में किस लिए की गई है और इसका मुख्य उद्देश्य क्या है।

तो जो इसका मुख्य उद्देश्य है, वह है भारतीय छात्रों को अपने स्कूल स्तर से ही सामान्य सैनिक शिक्षा प्रदान करना जोकि उन्हें आगे आने वाले समय में एक पूर्णता प्रशिक्षित सैनिक बना सके।

 

एन सी सी दिवस कब मनाया जाता है 

हम सभी जानते हैं कि हर संस्था का एक स्थापना दिवस होता है अर्थात की जिस दिन उसकी स्थापना हुई है, उस दिन को उसके स्थापना दिवस के रूप में मनाया जाता है

और अगर बात की जाए एनसीसी की तो एनसीसी की स्थापना 1948 में की गई थी परंतु जो इस का स्थापना दिवस है,

वह हर साल नवंबर महीने के आखिरी रविवार को मनाया जाता है, अर्थात कि जो भी दिन इस माह के अंतिम रविवार को आएगा उस दिन एनसीसी स्थापना दिवस भी मनाया जाएगा।

 

भारत मे एनसीसी (NCC) का मुख्यालय कहां स्थित है 

अगर बात की जाए भारत में एनसीसी के मुख्यालय की तो यह भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित है। जैसा कि हम जानते हैं कि भारतीय सेना के अधिकतर अंगों का मुख्यालय भी यहीं पर स्थित हैं।

 

Conclusion

आज के इस लेख में हमने एनसीसी (NCC) की स्थापना कब हुई किसने की के बारे में वह सभी जानकारियां एकत्रित की है और उनको जाना है जो आपके लिए जानना बेहद जरूरी है।

जैसे कि NCC ki sthapna kab hui, NCC के फायदे, नौकरी, सेलरी जैसे सभी महत्वपूर्ण सवालों का जवाब हमने इस लेख में विस्तार में प्रदान किया है, जिसका आप को वर्तमान तथा भविष्य में जरूर फायदा होगा

अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आए तो अपने बहुमूल्य कमैंट्स को हमारे लेख के कमेंट बॉक्स में जरूर टाइप करें ताकि आगे आने वाले समय में  हम इसी प्रकार के ज्ञानवर्धक लेख हम आपके लिए लाते रहे। धन्यवाद

Leave a Comment