उत्तर प्रदेश (UP) का सबसे बड़ा जिला (Up ka Sabse Bada Jila)

Up ka Sabse Bada Jila : उत्तर प्रदेश भारत  का एक राज्य है जो भारत के उत्तर में स्थित है

यह भगवन का घर है, राम, कृष्णा, बुद्ध आदि भगवानो का जन्म हुआ था | इस राज्य में दुनिया के 7 अजूबों में से एक अजूबा ताज महल है

इसका क्षेत्रफल 243,286 किलोमीटर स्क्वायर है | बनारस, लखनऊ, आगरा जैसे प्रसिद्ध शहर तथा जिले उत्तर प्रदेश में ही है |

उत्तर प्रदेश भारत का एक राज्य है जिसका सब से बड़ा जिला “लखीमपुर” है याने यदि आप को किसी ने पूछा की Up ka Sabse Bada Jila कौनसा है तो आप लखीमपुर का नाम ले सकते है

आज लेख में हम ने लखीमपुर सिमित उत्तर प्रदेश (UP) की भी महत्वपूर्ण जानकारी विस्तार में साझा करने की कोशिश की है

जो आप को अन्य किसी भी वेबसाइट पर प्राप्त नहीं होगी हमारा केवल एक ही मकसद है की हमारे पाठकों को प्राप्त होने वाली जानकारी सटीक और अधिक हो

इसीलिए हमारे वेबसाइट पर पब्लिश किये हर एक पोस्ट विशेषज्ञ के द्वारा साझा किये सटीक और महत्वपूर्ण होते है

 

विषय

उत्तर प्रदेश (UP) का सबसे बड़ा जिला (Up ka Sabse Bada Jila)

 

Up ka Sabse Bada Jila
UP Ka Sabse Bada Jila Kaunsa hai

 

उत्तर प्रदेश की जनसँख्या कितनी है 

इस राज्य की जनसँख्या 24 करोड़ के  लगभग है | यहाँ पर 72 % लोग गावं में रहते है, तथा 28 % लोग शहर में रहते है |

आज़ादी के बाद इसकी जनसँख्या 6 करोड़ थी जो आज बढ़के 2022 तक 24 करोड़ हो गयी है

 

उत्तर प्रदेश में कौनसे धर्म का पालन करते है

उत्तर प्रदेश में अलग अलग धर्म के लोग रहते है, तथा यहाँ पर लोग एक दुसरे के धर्म का पूरा सम्मान करते है

यहाँ पर हर धर्म के लोग किसी और धर्म के धर्म स्थल पे जाने में नही हिचकिचाते

धर्म मानने वालों  का प्रतिशत
हिन्दू 79.73%
मुस्लिम 19.26%
इसाई 0.18%
सिख 0.32%
बौद्ध 0.10%
जैनी 0.11%
अन्य 0.30%

 

उत्तर प्रदेश में बोली जाने वाली भाषाएँ 

हिंदी इस राज्य की राज्य भाषा है 91% से ज्यादा लोग हिंदी बोलते है

उत्तर प्रदेश में लगभग 29 भाषाएँ बोली जाती है

  • अवधी
  • ब्रज
  • बुन्देली
  • बघेली
  • कन्नौजी

आदि कुछ प्रसिद्द भाषाएँ है

 

उत्तर प्रदेश की संस्कृति  

पहनावा उत्तरप्रदेश में लोग पारम्परिक तथा वेस्टर्न कपडे अधिक पहनते है

औरतों के लिए साड़ी तथा सूट सलवार आम पोशाक है तथा मर्दों के लिए धोती कुरता अथवा लुंगी आम पोशाक है

यहाँ के लड़के लड़कियां जीन्सशर्ट, टीशर्ट और लकड़ियाँ जीन्सटॉप ज्यादा तर पहनते है |

उत्तरप्रदेश में बहुत तरह तरह के शिल्पकार तथा कारीगर होते है

उत्तरप्रदेश के बहुत शहर और जिले अपने काम से जाने जाते है, कुछ शहर तथा जिले जिस चीज़ के लिए प्रसिद्द है हमने नीचे दर्शाया है

नंबर जिले तथा शहर अपने काम के लिए प्रसिद्ध
1 आगरा शिल्प का घर माना जाता है
2 अलीगढ़ ज़री के काम का केंद्र  है
3 फिरोजपुर  कांच के काम का केंद्चूर होने की वजह से चूड़ियों का शहर है
4 लखनऊ रेशम और कपास के कपड़ो के काम और कढाई का केंद्र है
5 भदोही कालीनो का उत्पादन करता है
6 मुरादाबाद दातु के बर्तन का उत्पाद करता है
7 पीलीभीत लकड़ी के जूते ,लकड़ी के बांसुरी का उत्पाद करता है
8 सहारनपुर लड़की की नक्काशी की वस्तुओं का उत्पादन करता है
9 वाराणसी,मुबारकपुर ,आजमगढ़ रेशम और बनारसी साड़ियों का उत्पादन करता है |
10 गोरखपुर टेराकोरा की मूर्तियों तथ हस्तशिल्प के कपड़ों का उत्पादन करता है
11 निज़ामाबाद काली मिटटी के बर्तनों का उत्पादन करता है |
12 मऊ जजरी पैदा करता है

 

उत्तरप्रदेश में अलग अलग धर्म के अलग प्रचलित त्यौहार मनाये जाते है 

  • उत्तरप्रदेश में त्योहारों का मेला लगता है ,  क्योंकि हर महीने कोई न कोई त्यौहार अवश्य पड़ता है |
  • दिवाली, होली, दशहरा, रामलीला, नवरात्री, दुर्गा पूजा आदि हिन्दुओं के प्रसिद्द त्योहार है तथा इनमे से कुछ त्यौहार और धर्मो के लोगो द्वारा भी मनाये जाते है, यह सब त्यौहार यहाँ के भगवानो से संबंधित तथा उनपे बनी कहानियों के संबंधित है |
  • ईद इ मिलाद नाबी, ईद, करारीद, अली इब्न का जन्मदिन यह कुछ मुस्लिमों के प्रसिद्द त्यौहार है |
  • महावीर जयन्ती जैनियों द्वारा मनाई जाती है |
  • बुद्धा जयन्ती बुद्ध धर्म का अनुसरण करने वालो द्वारा मनाई जाती है |
  • लोहरी, सिखों के गुरुओं के जन्मदिन आदि त्यौहार सीखो द्वारा मनाये जाते है |
  • क्रिसमस इसाई धर्म वाले मनाते है |

 

उत्तर प्रदेश के कुछ प्रसिद्ध पर्यटन स्थल

 

  1. अयोध्या श्री राम की जन्म भूमि

अयोध्या में ही प्रभु श्री राम का जन्म हुआ था,अयोध्या श्री राम का स्मृति स्थल है |यहाँ पे श्री राम और हमुमान जी के बहुत बड़े बड़े मंदिर है

अयोध्या दिवाली में दुल्हन जैसी सजाई जाती है क्योंकि माना जाता है की इस दिन श्री राम जी माता सीता और लक्ष्मण जी के साथ 14 सालो का वनवास काट के वापस अयोध्या आये थे

श्री राम ने बहुत समय तक अयोध्या पे राज किया है | अयोध्या राम के नाम से ही जानी जाती है


  1. वृन्दावन

श्री कृष्णा  के वास करने का स्थान  श्री कृष्णा ने अपने जीवन का सबसे बहुमूल्य समय अपना बचपन का काफी समय यहाँ व्यतीत किया था

राधा और कृष्णा की रासलीला की गवाही वृन्दावन खुद देता है वृन्दावन में जगह जगह राधा और कृष्णा के मंदिर बने हुए है | यहाँ पे राधा और कृष्णा की पूजा की जाती है | जन्मास्टमी अर्थात कृष्णा का जन्मदिन यहाँ पे धूम धाम से मनाया जाता है


  1. ताजमहल एक अजूबा

ताजमहल के बारे में लगभग सब जानते होंगे, यह दुनिया के सात अजूबों में से एक है |इसे शाहजहाँ ने अपनी बेगम मुमताज की याद में बनवाया था यह सफ़ेद संगमरमर से बना हुआ है

इसकी सुन्दरता अद्रितीय है |इसकी तारीफ में एक बहुत ही प्रसिद्द कबी ने कहा था की “दुनिया में बस दो ही तरह के लोग है, एक वो जिन्होंने ताजमहल देखा है और दुसरे वो जिन्होंने ताजमहल नही देखा “ताजमहल को देखने हर साल बहुत सारे पर्यटक आते है


  1. वाराणसी

यह दुनिया का सबसे पुराना शहर है ,इस शहर का गंगा नदी से अटूट रिश्ता है |यह शहर हिन्दू धर्म के लिए सबसे पवित्र शहर है तथा ये बौद्ध और जैन धर्म के लिए भी धार्मिक शहर है

भारत का सांस्कृतिक संगीत भी बनारस में ही जन्मा था |भारत का सांस्कृतिक और धार्मिक केंद्र वाराणसी सहस्त्रो वर्षो से है |वाराणसी को काशी भी कहा जाता है

यहाँ पर दुनिया के सबसे प्रसिद्ध लोग कबीर, रविदास, रामचंद, जयशंकर प्रसाद, रामानंद, मुंशी प्रेमचंद, शिवानन्द गोस्वामी आदि का जन्म इसी भूमि से हुआ है


  1. अलाहाबाद

इसका नाम प्रयाग राज भी है प्रयाग का अर्थ नदी यमुना और गंगा के संगम से  होता है, यही सरस्वती नदी गुप्त रूप से संगम से मिलती है, इसे हिदुओं का प्रसिद्ध तीर्थस्थान है


  1. सारनाथ

सारनाथ बौद्ध धर्म के प्रसार का केंद्र है | यह बौद्ध धर्म के 4 तीर्थ स्थलों में से एक सारनाथ में है, इसे जैन और हिन्दू धर्म के लिए भी ज़रूरी मन जाता है, यहाँ सारंगनाथ महादेव का मंदिर है जिस पर हर साल सावन महीने में हिन्दुओं का मेला लगता है


  1. मथुरा

यह श्री कृष्णा का जन्म स्थल है | यहाँ पर श्री कृष्णा ने जन्म लिया था और बड़े होके यहाँ पर राज भी किया था | मथुरा को श्री कृष्णा के नगरी के नाम से भी जाना जाता है | यह शहर लगभग 7500 वर्ष से ज्यादा अस्तित्व में है


  1. विन्ध्याचल

यहाँ माँ विंध्यवासिनी देवी का मंदिर है, जिस करके विध्याचल बहुत प्रसिद्द है | माँ विंध्यवासिनी ने महिषासुर का वध करके लोगो को उसके अत्याचार से मुक्त किया था

यह नगर गंगा किनारे बसा हुआ है | मन जाता है की जो भी इंसान इस जगह ताप करेगा उसे सिद्दी की प्राप्ती होगी


  1. झाँसी

यह नगर 1857 में झांसी की रानी की पराक्रम की वजह से पप्रसिद्ध है | झांसी की रानी लक्ष्मी बाई ने  प्रथम भारतीय संग्राम में अहम् भूमिका निभाई थी

उन्होंने अपने आख़री दम तक हार नही माने थी , उनके साहस कको देखते हुए  अंग्रेज़ी जनरल ने कहा था की उन्होंने आज तक ऐसा  जाबाज़ नही देखा था


  1. हस्तिनापुर

महाभारत का युद्ध भी इसी राज्य से शुरू हुआ था |यह महाभारत काल में  कुरु वंश के राजाओं की राजधानी थी |महा भारत में घटी घटनाये हस्तिना पुर की है

यही पर पांडवो के राज के लिए बहुत बड़े बड़े युद्ध हुए है | यह कौरवों और पांडवों की भूमी है

 

उत्तर प्रदेश के जिले    

उत्तर प्रदेश में कुल 75 जिले है 

कुल 75 जिलों के नाम हमने नीचे दिए है 

 आगरा बहराइच बुलंदशहर
अलीगढ बल्लिया चंदौली
प्रयागराज बलरामपुर चित्रकूट
आंबेडकर नगर बाँदा देओरिया
अमरोहा बाराबंकी एतः
औरैया बरेइलली इतावाह
आजमगढ़ बस्ती फैजाबाद
बदौन बिजनोर फर्रुखाबाद
प्रतापगढ़ राए बरेली रामपुर
शाहजहांपुर शामली श्रावस्त
अलाहाबाद अमेठी बागपत
फतेहपुर हापुर कासगंज
फिरोजाबाद हरदोई कौशाम्बी
गौतम बुद्ध शहर हाथरस कुशीनगर
घज़िआबाद जौनपुर लखीमपुर खेरी
घाज़िपुर झाँसी ललित पुर
गोंडा कन्नौज लखनऊ
गोरखपुर कानपुर महाराजगंज
हमीरपुर कानपूर देहात महोबा
सहारनपुर संत कबीर नगर संत रविदास नगर
सिधार्त्नगर सीतापुर सुलतानपुर
मैनपुरी मथुरा मऊ
मेरठ मिर्ज़ापुर मोरादाबाद
मुज़फ्फरनगर पीलीभीत संभल
उन्नाव

 

उत्तर प्रदेश (UP) का सबसे बड़ा जिला 

 उत्तर प्रदेश (UP) का सबसे बड़ा जिला लखीमपुर है । 

यह जिला भारत नेपाल सीमा और पीलीभित ,शाहजहापुर, हरदोई, सीतापुर और बहराइच जिलों से घिरा हुआ है

पहले इसका नाम लक्ष्मीपुर जिला था पर आगे चलके इसका नाम बदल दिया गया

खीरी का अर्थ होता है खर वृक्ष  होता है

पहले ये जिला खर के वृक्षों से घिरा हुआ था जिस लिए इसको लखीमपुर खीरी के नाम से जाना जाता है

  • लखीमपुर खीरी लखनऊ का हिस्सा है

 

लखीमपुर खीरी का भूगोल 

इस जिले का क्षेत्रफल 7,680 किलो मीटर है

यह जिला समुन्द्र तल से 147 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है | लखीमपुर खीरी उत्तर में मोहन नदी से घिरा हुआ है |

 

लखीमपुर की जनसँख्या    

2022 में लखीमपुर खीरी की आबादी 4,537,214 है | इस जिले की साक्षर 49% है | इस जिले की जनसँख्या में 11.46 % लोग शहरी है | बाकी लोग देहाती है

 

लखीमपुर खीरी में बोली जाने वाली भाषाएँ  

यहाँ बोली जाने वाली भाषाओं में अवधी सबसे ख़ास है , अवधी 0.38 लोगों द्वारा बोली जाती है | हिन्दी यहाँ की सबसे मुख्य भाषा है

लखीमपुर खीरी में धर्मं  

इस जिले में भी लोग अलग अलग धर्म का अनुसरण करते है पर यहाँ पे सबसे ज्यादा हिन्दू धर्म का पालन होता है

यहाँ पे हिन्दू धर्म को मानने वालो का प्रतिशत 77.41% है, इसके बाद 19.1% मुस्लिम धर्म का अनुसरण करते है

सिखिस्म का अनुसरण भी 2.63 प्रतिशत होता है, अन्य धर्म का अनुसरण 0,86 % होता है

 

उत्तर प्रदेश (UP) के सबसे बड़े जिले लखीमपुरखीरी के शहर और नगर    

लखीमपुर के नगर


  1. तिकुनिया
  2. संपूर्ण नगर
  3. सिंगाही भिरौरा
  4. गोला गोरखनाथ
  5. बरवार
  6. भीरा खेरी

लखीमपुर के शहर


  1. पलिया कलन
  2. मैलानी
  3. धौरहरा
  4. खेरी
  5. लखीमपुर
  6. ओएल ढकवा

लखीमपुर के गाँव

लखीमपुर जिले के कुछ गाँव

अछ्निया अधारपुर आगरा
अत्खोना अत्नाहिया बछेपारा
बरगदिया बसही खमरिया
हुसेनपुर दुर्गापुर गठ्रुवा
ईसापुर गिन्हौना गौरिया
बेल बहरा भरता
अल्लीपुर अम्बुअपुर अमिर्तापुर
बहादुर पुर बैरागर बम्हानपुर
खेरी कला आम हिंडोलना
गौर हरदासपुर कादीपुर
गूम चौपुर देवरी
बेल्वापौर बहादुरी बिलरिया
अंदेश नगर अर्नी खाना बंजरिया
बन्न्वारिपुर जमुनिया कादीपुर
खैयापुर खैया डोमनपुर
गुलोला बसही बेलवा

 

लखीमपुर खीरी में पर्यटन स्थल

 

  1. किशनपुर अभयारण्य

किशनपुर वन्यजीव अभ्यारण्य उत्तर प्रदेश में भारत में मिलनी के पास स्थित है | इसका क्षेत्रफल २२७ किलोमीटर का है |यह अभ्यारण्य 1972 में स्थापित किया गया था

यह लखीमपुर खीरी जिले में भीरा शहर से 13 किलोमीटर दूर है | यह अभ्यारण्य पेड़ पौधों को सुरक्छित रखने के लिए  बनाया गया था | अभ्यारण्य सागौन और जामुन के घने के पर्णपाती जंगल से आराक्छित है


  1. मेंढक मंदिर

भारत एक अनोखी जगह है यहाँ पर ऐसी चीज़ें और स्थल है जो लोगो को हैरान कर दे |यहाँ पर जानवरों के लिए भी मंदिर है ,यहाँ पर साँप, चील, चूहे, और यहाँ तक की कुत्ते के लिए भी मंदिर है

उत्तर प्रदेश में एक मेढ़क मदिर है ,और इस मंदिर की कहानी बहुत दिलचस्प है | हमारे इतिहास में तांत्रिक परंपरा का एक मजबूत आधार है


  1. दुधवा नेशनल पार्क

ुधवा नेशनल पार्क  प्रदेश के उत्तर में स्थित है, यह उत्तर प्रदेश के दलदली घास के मैदानों के तराई बेल्ट में एक राष्ट्रीय उघान है यह 490 किलोमीटर के क्षेत्र तक फैला हुआ है

यह कई लुप्त प्रजातियों की संभाल करता है | लम्बे गीले घास के मैदानों की प्रजातियों को बाध्य करता है


  1. सुरत भवन पैलेस

सूरत पैलेस उत्तर प्रदेश की सिंगही में स्थित है , यह 19 सदी का महल है, जिसका निर्माण इंडो सरसेनिक तकनीक में किया गया था, इसकी सुन्दरता पर्यटकों को ख्हुद अपनी तरफ आकर्षित करता है


 

उत्तर प्रदेश के सबसे बड़े जिले के बारे में कुछ तथ्य    

  • दुघवा राष्ट्रीय उघान लखीमपुर खीरी में है यहाँ पर बाघ ,तेंगुआ,दलदली हिरन तथा अन्य विलुप्त होने वाली जातियों की संभल होती है |यह हमारे इंडिया के महत्वपूर्ण उघानों में से एक है
  • लखीमपुर खीरी में पुरुष औरतों से ज्यादा है
  • देहाती क्षेत्र में 68% पुरुष साक्षर है तथा औरतें 48.23% साक्षर है
  • शहरी क्षेत्र में 76.43% पुरुष साक्षर है तथा औरतें  66% साक्षर है
  • लखीमपुर में कई नदियाँ बहती है | जिसमे से शारदा,घाघरा, कोरियाला, सरायन, चौका, गोमती, मोहना है

 

FAQs – Up ka Sabse Bada Jila kounsa Hain 

सवाल : उत्तरप्रदेश में कितने जिले है ?

उत्तर प्रदेश में कुल 75 जिले है |

सवाल : उत्तरप्रदेश (UP) का सबसे बड़ा जिला कौन सा है ?

उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा जिला लखीमपुर खेरी है |

सवाल : उत्तर प्रदेश (UP) का सबसे छोटा जिला कौन सा है ?

उत्तरप्रदेश का सबसे छोटा जिला भदोही है |

सवाल : उत्तरप्रदेश के आसपास कौन से राज्य है ?

उत्तर प्रदेश  के आस पास उत्तराखंड, मध्य प्रदेश,राजस्थान, बिहार, छत्तीसगढ़ है

सवाल : बनारस कहाँ पर है ?

बनारस उत्तरप्रदेश में है

सवाल : उत्तर प्रदेश (UP)का सबसे ज्यादा जनसँख्या वाला जिला(Jila)कौन सा है ?

उत्तर प्रदेश का सबसे ज्यादा जनसँख्या वाला  जिला लखीमपुर खीरी है

सवाल : उत्तर प्रदेश का सबसे दबंद जिला कौन सा है ?

उत्तर प्रदेश का सबसे दबंद जिला सीतापुर है

सवाल : उत्तर प्रदेश की राजधानी (Capital)क्या है ?

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ है

 

Conclusion

इस ब्लॉग लेख में आपने उत्तर प्रदेश (UP) का सबसे बड़ा जिला बारें में जाना। आशा करते है आप Up ka Sabse Bada Jila का हिन्दी मे क्या अर्थ होता है की पूरी जानकारी जान चुके होंगे।

अगर आपका इससे संबन्धित किसी भी तरह का सवाल है तब नीचे कमेन्ट में पूछ सकते है जिसका जवाब जल्द से जल्द दिया जायेगा।

आपको लगता है कि इसे दूसरे के साथ भी शेयर करना चाहिए तो इसे सोश्ल मीडिया पर सबके साथ इसे साझा अवश्य करें। शुरू से अंत तक इस लेख को पढ़ने के लिए आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया …

Leave a Comment